बुधवार, 13 अप्रैल 2011

मदन जी की कविता -अत्याचारों पर हुँकार भरो

मदन जी की ये कविता कमेन्ट बॉक्स में थी मुझे लगा सबसे शेयर करनी चाहिए तो पोस्ट पर लगा दी..आशा है मदन जी अन्यथा नहीं लेंगे..
.................................

अब होते अत्याचारों पर
मिलकर ये हुँकार भरो
कहाँ छिपे हो घर मैं बेठे
निकलो और संहार करो
आतंकी अफजल , कसाब को
और नहीं जीने दो अब
घुस जाओ जेलों मैं मित्रो
आओ मिलकर वार करो
कोन है हिटलर ? कोन है हुस्नी ?
किसका नाम है गद्दाफी ?
दुष्टों को बस मोत सुना दो
देना नहीं कोई माफ़ी ….
कि जो कोई साथ दे उनका ,
बजाय हुक्म माली सा ,
सजाय मोत दो उनको
रूप हो,रोद्र काली सा

....................
द्वारा: मदन शर्मा

2 टिप्‍पणियां:

  1. मैं इस वीर रस से भरी अभिव्यक्ति पर नतमस्तक हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. मदन जी बीर रस से भरी हुंकार युक्त ये रचना -सुन्दर आवाहन बधाई हो
    आओ हम सब सरे मिलकर सुन्दर धरा बनायें
    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५

    उत्तर देंहटाएं