बुधवार, 10 अगस्त 2011

भीष्म -शैय्या पर पड़े


भीष्म -शैय्या पर पड़े
आज आप “भीष्म ” शैय्या पर पड़े
इतने दिन सब कुछ सहे
आराम से खून देते जा रहे हैं
high-school-student_~957906


















दीजिये -ख़ुशी है
लेकिन हम मच्छर नहीं
mosquito-feeding_~u15504651















की केवल अपना पेट भर के
आप को छोड़ देंगे
हमारी तो पूरी जमात है
mosquitoes-action_~k6225946


















घर है परिवार है
और जब आप चेतना शून्य हो जायेंगे
तो हम सब आप के चाहने वालों को
घर परिवार को
आप की जमात को
एक -एक कर
बुला लेंगे
सुला देंगे
इसी शैय्या पर
खून देते रहने के लिए
MH900447141


















(सभी फोटो साभार गूगल/नेट से लिया गया )
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५
२८.७.२०११ जल पी बी
४.२९ पूर्वाह्न

2 टिप्‍पणियां:

  1. सदा की तरह प्रभावित करती रचना। आज और विशेष कुछ नहीं सिर्फ़
    बधाई! बधाई!! बधाई!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मदन भाई धन्यवाद और आभार आप का ...आप की ये बधाइयाँ सर आँखों पर ..आइये यों ही कुछ करते आगे बढ़ते रहें
    आभार आप का
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं