मंगलवार, 19 जुलाई 2011

‘‘एक फूल दो माली’’


‘भ्रष्टाचार’ की पल-पल खुलती पोल ने न केवल बड़ी-बड़ी सियासी ताकतों को बेनकाब किया अपितु लोकतंत्र की जड़ों को भी हिलाया दिया। वास्तविकता सामने आना और इस अशुद्ध चरित्र के विरूद्ध कोई कार्रवाई होना, दोनों अलग-अलग बातंे हैं। यथा इस फेर में न पड़ते हुए भ्रष्टाचार से त्रस्त जनता के सशक्तिकरण व उसके द्वारा उठाये गये कदमों की बात करते हैं।
भ्रष्टाचार के विरूद्ध छेड़ी गई दो मुहिमों ने संप्रग सरकार की रातों की नींद व दिनों के चैन का हरण कर लिया। अन्ना हजारे का अध्याय अभी समाप्त भी नहीं हुआ था कि बाबा रामदेव ने जो सियासी भूचाल लाया उसने कई प्रश्नों को स्थायित्व दिया। अन्ना हजारे व बाबा रामदेव दोनों एक ही मंजिल के लिए सफर कर रहे हैं परन्तु दोनों के मूलभाव भिन्न-भिन्न हैं । एक (अन्ना हजारे) का मार्ग निष्पक्ष, निस्वार्थ व लोकहितकारी प्रतीत होता है। साधु न होते हुए भी साधुत्व के सभी गुण अन्ना हजारे स्वयं में समाहित किये हुए है। वहीं दूसरी ओर राजनीति की दहलीज पर अपनी चाबी का ताला टंागने की चाह रखने वाले बाबा के इस संघर्ष से निजी स्वार्थ की बू आती है। निश्चित रूप से किसी पर किसी भी प्रकार की उंगली उठाने से पूर्व प्रमाणिक साक्ष्य का होना आवश्यक है। अतः इस प्रकरण को भी इस प्रकार समझा जा सकता है-
इस संघर्ष का आरम्भ भ्रष्टाचार की लपटों से पीड़ित जनता पर लोकपाल विधेयक की मलहम से हुआ। अन्ना हजारे ने देश की सम्पूर्ण जनता का नेतृत्व करते हुए संप्रग सरकार से लोकपाल विधेयक पारित करने की मांग की। यह मुद्दा गर्म जोशी से चल ही रहा था कि अचानक बाबा रामदेव को भ्रष्टाचार रूपी दैत्य से युद्ध करने का जोश आया और वे विशेष सुविधाओं के साथ अपने योग-कम-अनशन पर बैठ गये रामलीला मैदान में। निश्चित रूप से बाबा ने सटीक व आवश्यक मुद्दों को सरकार के सम्मुख प्रस्तुत किया। परन्तु तुरत-फुरत लिये गये उनके इस निर्णय ने हजारों लोगों के प्राणों को संकट में डाल दिया। बाबा की भक्ति में लीन भक्त बाबा के शब्दों का अनुसरण करते हुए रामलीला मैदान पहुँच गये। प्रायः देखा गया है कि इस प्रकार के किसी भी एकत्रीकरण पर तत्कालीन सरकार किसी न किसी बहाने से गिरफ्तारी का वारंट निकलती ही है। उत्तर प्रदेश में भट्टा पारसौल मामले में राहुल गाँधी, सचिन पायलट आदि की गिरफ्तारी राजनीति में चूहा-बिल्ली के इस खेल का प्रमाण है। बाबा की गिरफ्तारी या बाबा के विरूद्ध किसी भी प्रकार की कार्रवाही निश्चित थी। यूपी सरकार हो या कोई अन्य सभी का प्रायः कदम यही होता है। बाबा जानते थे इस प्रकार की गतिविधि पर उन्हें प्राप्त जनसमर्थन का परिणाम हंगामा होगा और उस हंगामे को नियन्त्रित करने के लिए लाठी चार्ज और...........
परिणामतः बाबा के प्रति बढ़ी श्रृद्धा एवं सहानुभूति। पूर्व नियोजित यह सम्पूर्ण प्रकरण बिल्कुल उसी तर्ज पर चला जिसकी कल्पना बाबा ने की थी। इसका शिकार हुई निर्दोष व भोली जनता। बाबा जनता के विश्वास पर राजनीति की रोटियाँ सेंकने की कला भली-भांति जानते हैं और वे सफल भी हुए।
बाबा ने इतने विशाल आयोजन में जनता के लिए किसी रक्षात्मतक रणनीति की योजना क्यांे नहीं बनाई? विशाल भीड़ को बाबा ने अपनी जिम्मेदारी पर एकत्रित किया था जिसे निभाने में वे पूर्णतः असफल रहे। इस प्रकरण में एक प्रश्न बार-बार उठाया गया कि मासूम जनता पर लाठीचार्ज क्यूँ किया गया? इसका उत्तर प्रमाण के साथ बहुत सरल है- किसी न किसी को तो पिटना था- या तो पुलिस पिटती या जनता। हाल ही में मेरठ बिजली बम्बा पर हुए दंगों में जनता ने पुलिस को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। सर्वविदित है जिसका लाठी उसी की भैंस। जनता यदि साधन सम्पन्न स्थिति में होती तो निश्चित रूप से पुलिस को पीटती। पर क्या पुलिस वाले किसी के पिता किसी के भाई नहीं हैं? बाबा की अंध भक्ति ने लोगों की विचारणीय क्षमता को सम्मोहित किया हुआ है। वह दूरदर्शी हुए बिना वर्तमान के मोह को जीना चाहते हैं और बाबा का अंधानुसरण कर रहे हैं। विचारणीय है कि अन्ना हजारे के समर्थन में उतरा बॉलीवुड व अन्य बुद्धिजीवी वर्ग बाबा की राजनीतिक भूख को पहले ही भांप गये। यही कारण रहा कि इनमें से किसी ने भी बाबा के अनशन का समर्थन नहीं किया। स्मरणीय है कि कुछ वर्षों पूर्व बाबा ने राजनीति में आने की अपनी इच्छा व्यक्त की थी और तभी से बाबा किसी न किसी राजनीतिक बयानबाजी के लिए सुर्खियों में रहे हैं। आखिर साधु को राजनीति के इस चस्के का क्या अर्थ है? साधु तो निःस्वार्थ भाव से जनकल्याण के लिए समर्पित होते हैं। यह कैसा समर्पण है?
दिग्विजय सिंह द्वारा बाबा रामदेव के योग का नामकरण ‘योग उद्योग’ काफी सार्थक प्रतीत होता है। यह योग उद्योग नहीं तो और क्या है? बाबा से योग सीखाने के लिए अग्रिम पंक्तियों में बैठने का टिकट रू 25000 और पीछे बैठे लाचार गरीब जनता। योग को बढ़ावा देने वाले बाबा का यह पक्षपाती व्यवहार समझ से परे है। इस उद्योग ने बाबा को अरबपति साधु बना दिया। साधु को सम्पत्ति संग्रह की शिक्षा किस धर्मशास्त्र में दी जाती है, यह शोध का विषय है। व्यक्तिगत हैलीकॉप्टर, एसी युक्त भवन- ये कैसे साधु?
भ्रष्टाचार के विरूद्ध या कहें संप्रग सरकार के विरूद्ध आरम्भ की गई इस मुहिम में बाबा की राजनीतिक मंशा को उनके एक और कृत्य ने प्रमाणित किया। अनशन आरम्भ करते ही उन्होंने अन्ना हजारे की उपेक्षा की। जब दोनांे की लक्ष्य एक ही था और मार्ग भी समानान्तर थे तो क्यों नहीं बाबा ने अन्ना हजारे की जंग का समर्थन कर इस संघर्ष को मजबूती प्रदान की। अतिआत्मविश्वास के वशीभूत रामदेव ने इस संघर्ष को दिशाहीन कर दिया। एक ही उद्देश्य की पूर्ति की जिजीविषा के बावजूद देश की जनता अन्ना हजारे और रामदेव, दो धाराओं में बँट गई। फेसबुक पर आते अपडेट के अध्ययन से ज्ञात हुआ बहुत से लोग दिग्भ्रमित हो भ्रष्टचार को भूल अन्ना समर्थन और बाबा की आलोचना के चक्रव्यूह में उलझ कर रह गये हैं। और मुख्य मकसद से भटक गये। बाबा ने इस मुहिम को कमजोर कर दिया।
इस प्रकरण में नाटकीय मोड़ तब आया जब बाबा को स्त्रीवेश में देखा गया। बाबा ने अनशन गाँधीवादी नीतियों का अनुसरण करते हुए प्रारम्भ किया था। परन्तु सच कहें तो बाबा ने गाँधी जी की नीतियों का घोर अपमान किया। सभी देशभक्तों ने आजादी की जंग में लाठियाँ खाई। लाला लाजपत राय अंग्रेजों की लाठी की चोट के कारण वीरगति को प्राप्त हुए। उन सार्थक व अचूक नीतियों के अनुसरण का ढ़िढ़ोंरा पीटने वाले साधु बाबा जान बचाकर भागे स्त्रीवेश में? कितना शर्मनाक व अपमानजनक है यह सब। निश्चित रूप से उस दिन स्वतंत्रता सेनानियों व वीर देश भक्तों की आत्मा रोई होगी। बाबा ने जान बचाने के लिए महिलाओं का संरक्षण प्राप्त किया। यह कैसी वीरता थी? कैसे दृढ़ संकल्प था? क्या इन महिलाओं के भरोसे बाबा ने अनशन आरम्भ किया था?
इसके पश्चात् बाबा ने पुनः जनता के कंधों पर बंदूक चलाने की रणनीति बनाई। 11000 लोगों की फौज जो भ्रष्टाचार के विरूद्ध लड़ने के लिए तैयार की जायेगी। समझ में नहीं आता कि बाबा यह सब ना समझी में कर रहे हैं या जानबूझकर देश की जनता को ‘देसी आतंकवाद’ का पाठ पढ़ा रहे हैं। क्या इस प्रकार की भड़काऊ रणनीति देश में कानून व्यवस्था को चरमराने के लिये पर्याप्त नहीं है? निश्चित रूप से है। वास्तव में बाबा स्वार्थपूर्ति के जनून में आत्मनियत्रण व विवेक को खो चुके हैं। गाँधी-नेहरू के देश में हिंसा के उपदेश, सम्पूर्ण विश्व में भारत के वीरों की किरकिरी करा रहे हैं। भोली कहे जाने वाली जनता यदि ऐसे उपदेशों का अनुसरण करती है तो कड़े शब्दों में कहा जाये, तो निश्चित रूप से वह भोली नहीं बेवकूफ है।
कुछ सीमाएँ बाबा ने लाँघी और कुछ पोल बाबा की स्वतः खुल गई। योग द्वारा 200 वर्षों तक जीने का दावा करने वाले बाबा 6 दिन अनशन करने में सफल न हो सके। फिर कर दिया बाबा ने योग का अपमान। विश्व भर में योग सेंटर चला रूपया कमाने वाले बाबा ने योग पर प्रश्नचिन्ह आरोपित कर दिया। विश्व में भारतीय योग का प्रचार-प्रसार कर सम्मान दिलाने वाले ने ही भारतीय योग को शर्मिंदा कर दिया।
वर्तमान परिस्थितियाँ यह है कि बाबा ने मौन धारण कर लिया। यह एक सरल माध्यम है। बाबा जानते है कि जब भी वे मुँह खोलेंगे उनसे कुछ न कुछ अंटशंट बोला जायेगा। वे पहले ही अपनी बहुत सी पोल खोल चुके है। कहा भी जाता है ‘जो मुँह खोले सो राज बोले’। बाकि रहस्य उद्घटित न हो इसके लिए बाबा का मौन रहना ही उचित है।
इस सम्पूर्ण घटनाक्रम में विपक्ष व मीडिया दोनों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। विपक्ष ने राजनीतिक दाँवपेंचों की सभी पोथियाँ खोल दी। आरोप-प्रत्यारोप राजनीति की पुरानी परम्परा है। परन्तु क्या इसकी कोई सीमा निधारित नहीं होनी चाहिए? इस परम्परा का पालन करना कोई विवशता नहीं, मात्र राजनीतिक लाभ के लिए देश को बाँटना कहाँ तक उचित है? क्या निजस्वार्थ देशहित से बड़ा हो चला है?
मीडिया का रामदेव कवरेज इसके दायित्वबोध को संदिग्ध करता है। बड़ौत में जैन मुनि प्रभसागर के साथ हुए अत्याचार का मीडिया कवरेज नाममात्र के लिए था। एक मुनि की वर्षों की तपस्या भंग कर दी गई। उनकी आस्था, उनके सम्मान को खण्डित किया गया और मीडिया चुप। क्यों मीडिया ने इस प्रकरण पर विशेषांक नहीं निकाले? क्या मीडिया वास्तव में बाबा की व्यक्तिगत सम्पत्ति हो गया है? किंकर्तव्यविमुढ़ता की इस चरमावस्था ने यह सोचने के लिए बाध्य कर दिया है कि आखिर हमारे लिए देश कितना महत्वपूर्ण है? इस पीढ़ी को उपहारस्वरूप मिली आजादी को क्या चंद लोगों के सुपूर्द कर देना समझदारी है? इस वैचारिक गुलामी से आजादी पाना बहुत जटिल है। देश की जनता को विवेक को जाग्रत करने की आवश्यकता है। सोचिये, समझिये और विचारिये अन्यथा आपके मस्तिष्क पर किसी और का राज होगा।

3 टिप्‍पणियां:

  1. बाबा के मुद्दे और दिग्विजय के परोक्ष समर्थन पर असहमत हूँ आप से ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. लेख से पहले तो लेखिका की प्रचारकामी सोच दिख जाती है की लेख में जो चित्र लगाया गया है वो लेख से सम्बंधित ना होकर लेखिका है तो इस का सीधा अर्थ यह हुआ की यह लेख तार्किक ना होकर सस्ते लोकप्रचार को पाने का साधन था और शायद इसी लिए लेखिका ने सही तथ्य पता लगाने का भी प्रयास नहीं किया है | आइये देखें कैसे
    "अन्ना हजारे का अध्याय अभी समाप्त भी नहीं हुआ था कि बाबा रामदेव ने जो सियासी भूचाल लाया" , बिल्कुल गलत बाबा रामदेव तो भ्रष्टाचार के विरुद्ध पिछले १५ वर्षों से संघर्ष कर रहे हैं और वो अपनी एक भ्रष्टाचार विरोधी मुहीम की १ लाख किलोमीटर की यात्रा में ही थे जब की अचानक अन्ना हजारे और IAC का उदय हो गया था |
    "साधु न होते हुए भी साधुत्व के सभी गुण अन्ना हजारे स्वयं में समाहित किये हुए है" ,शायद इसी लिए उनकी टीम में अग्निवेश जैसे दागी भरे हुए हैं | उन्होंने उमा भारती और चौताना को राजनीतिक होने के कारण मंच पर नहीं आने दिया परन्तु नक्सली और अलगाववादी समर्थक अग्निवेश को साथ रखा |
    "बाबा के इस संघर्ष से निजी स्वार्थ की बू आती है" ,क्यों की बाबा ने मंच पर स्थान दिया अन्ना को वरना उससे पहले तो दिल्ली के कुत्ते भी अन्ना हजारे को नहीं जानते थे | उन्होंने अन्ना हजारे के आन्दोलन को बिना शर्त समर्थन दिया जबकी अन्ना के कभी तो गैरजिम्मेदाराना बयान दिए की बाबा आन्दोलन करने के लिए परिपक्व नहीं हैं तो कभी कहा की बाबा अगर उनका समर्थन करना चाहते हैं तो उनकी शर्तें माननी होंगी |

    विचारणीय है कि अन्ना हजारे के समर्थन में उतरा बॉलीवुड व अन्य बुद्धिजीवी वर्ग बाबा की राजनीतिक भूख को पहले ही भांप गये, या शायद यूँ कहें की वो बाबा के आन्दोलन से भयभीत हो गए थे |शायद उनको पता था की अन्ना का आन्दोलन तो मात्र एक प्रहसन अहि उनकी कुछ हानि नहीं होगी परन्तु बाबा के आन्दोलन से वो भयभीत हो गए थे |

    यही कारण रहा कि इनमें से किसी ने भी बाबा के अनशन का समर्थन नहीं किया। एक लाख लोगों की भीड़ केवल दिल्ली में देश भार में करोनो और आप कह रही हैं कोई नहीं |

    बाबा से योग सीखाने के लिए अग्रिम पंक्तियों में बैठने का टिकट रू 25000 और पीछे बैठे लाचार गरीब जनता। कभी योग शिविर में जाकर देखो , वहां किसी से कोई टिकेट नहीं लिया जाता है और फिर जिसे आगे कहा जा रहा है वो भी इतना ही आगे होता है की बाबा को वो लोग TV पर देखते हैंह और पीछे वाले बी TV पर देखते हैं और जो घर में बैठ कर निःशुल्क देखते हिं वो भी TV पर देखते हैं |

    साधु बाबा जान बचाकर भागे स्त्रीवेश में? कितना शर्मनाक व अपमानजनक है यह सब।यह लेखिका की इस्लामिक मानसिकता है जिसमे स्त्री को पुरुष से हीनतर माना जाता है |वैसे आन्दोलन का लक्ष्य जनचेतना थी | बलिदान साधन होता है साध्य नहीं |


    यह कैसी वीरता थी? कैसे दृढ़ संकल्प था? क्या इन महिलाओं के भरोसे बाबा ने अनशन आरम्भ किया था? बाबा अपनी शांतिपूर्ण गिरफ्तारी के लिए तैयार थे परन्तु पुलिस उनकी हत्या करना चाहती थी , बाबा की वीरता छत्रपति शिवाजी , महाराणा प्रताप वाली वीरता थी | बाबा ने देश की 120 करोड़ देशभक्त जनता के भरोसे पर आन्दोलन प्रारंभ किया था और वो महिलाएं भी उसी में से थीं |

    मीडिया का रामदेव कवरेज इसके दायित्वबोध को संदिग्ध करता है। और अन्ना का कवरेज ??बाबा तो इस सम्बन्ध में तैयारी के साथ आये थे उनके पास BST की श्रंखला है और अपना टीवी चैनल पर अन्ना को अचानक इतना महत्त्व क्यों मिल गया की जन्तात मंतर को तःरेर चौक बना दिया गया ???

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय लेखिका जी ! आपका लेख पूर्वाग्रह से मुक्त प्रतीत नहीं हो रहा है ...ऐसे विषयों पर लेखन से पूर्व मस्तिष्क का कागज़ पूरी तरह कोरा होना चाहिए. कुछ बिन्दुओं पर आपके उत्तर चाहूंगा -

    "साधु तो निःस्वार्थ भाव से जनकल्याण के लिए समर्पित होते हैं।"

    भारत का प्राचीन राजनीतिक आदर्श भी ऐसा ही था. राजा और अमात्य का जीवन साधु जैसा ही होना चाहिए अन्यथा वह जनता का शोषण ही करेगा जैसा कि अभी हो रहा है. यह इसलिए हो रहा है क्योंकि आप जैसे विचारक राजनीति में भ्रष्टाचार का शाब्दिक विरोध तो करते हैं पर राजनीति में साफ़-सुथरे लोगों के आने का समर्थन भी नहीं करते. अर्थात राजनीति में आप यथास्थिति बनाए रखना चाहती हैं ? मैंने और भी लोगों के मुंह से सुना है कि साधु को राजनीति में नहीं आना चाहिए....मेरा पार्ष्ण है कि फिर किसे आना चाहिए ? ...क्या राजनीति केवल भ्रष्ट लोगों के लिए ही आरक्षित है ? और क्या यह अघोषित आरक्षण समाप्त नहीं होना चाहिए ?

    "बाबा यह सब ना समझी में कर रहे हैं या जानबूझकर देश की जनता को ‘देसी आतंकवाद’ का पाठ पढ़ा रहे हैं।"

    बाबा का कृत्य आपको किस तरह "देसी आतंकवाद का पाठ" लग रहा है ? क्या इमानदारी, राष्ट्र प्रेम , भारतीय मूल्यों और योग के समर्थन और उसके प्रति समर्पित होना देसी आतंकवाद है ? क्या भ्रष्टाचार, चरित्रहीनता, और पश्चिमी देशों की अवैज्ञानिक जीवन शैली जैसे मानवीय पतन के विरोध की बात करना देसी आतंक वाद है ? यदि ऐसा है तो तो स्वामी विवेकानंद , स्वामी दयानंद सरस्वती, सरदार भगत सिंह , चन्द्रशेखर आज़ाद जैसे लोग भी देसी आतंकवादी हैं. क्या आपको नहीं लगता कि जाने-अनजाने में आपने इन भारतीय विभूतियों का घोर अपमान किया है ?

    "गाँधी-नेहरू के देश में हिंसा के उपदेश, सम्पूर्ण विश्व में भारत के वीरों की किरकिरी करा रहे हैं।"

    बाबा या अन्ना ने हिंसा की बात कब की है ? प्रत्युत सरकार ने बाबा के जन आन्दोलन को हिंसा से कुचल दिया है जिसके कारण सुप्रीम कोर्ट तक को संज्ञान लेना पडा. देश की विदेशों में किरकिरी किस कारण से हो रही है बाबा के आन्दोलन से या सरकारी हठधर्मिता से, आर्थिक घोटालों से और आतंकी हमलों से ? देश की किरकिरी का सही निदान किये बिना उसका उपचार कैसे किया जा सकेगा ? और सुनिए ....यह भी एक सुस्थापित राजनीतिक सत्य है कि गांधी-नेहरू यदि चाहते तो इस देश के टुकड़े नहीं हुए होते .....तब किरकिरी नहीं हुयी थी क्या ?



    "मात्र राजनीतिक लाभ के लिए देश को बाँटना कहाँ तक उचित है? क्या निजस्वार्थ देशहित से बड़ा हो चला है?"



    यह आप किसके लिए कह रही हैं ? क्या अन्ना और बाबा देश को बाटने में लगे हुए हैं ? लेखिका जी ! देश तो बट चुका बहुत पहले.......गांधी-नेहरू के सामने ही बट गया था..... रहा सहा, अब उनके ही उत्तराधिकारी जातिगत आरक्षण और अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के निंदनीय कृत्यों और षड्यंत्रों को हथियार बनाकर खंड-खंड कर देने पर पिछले पैंसठ सालों से तुले हुए हैं.

    राष्ट्र की इस कर्मशाला में सभी प्रश्नों के उत्तर देना अनिवार्य है, जो प्रश्न हल नहीं किये जायेंगे उनके लिए ऋणात्मक अंकों की भी व्यवस्था है.

    मूल्यांकनकर्ता होंगे इस ब्लॉग के सभी पाठकों के साथ-साथ इस पूरे देश के लोग.

    समय सीमा :- शीघ्रता न करें ...खूब सोच-समझकर उत्तर दें ...ये राष्ट्रीय महत्त्व के प्रश्न हैं.

    उत्तर देंहटाएं