शुक्रवार, 1 जुलाई 2011

मन मोहन जी कुर्सी से फेविकोल के जोड़

देश का नेता कैसा हो क्या मन मोहन के जैसा हो ............

आज कल हर जगह यही चर्चा चल रही है की देश का नेता कैसा हो ..
.एक साहब ने एक सवाल दाग दिया कि
घर का मुखिया कैसा हो अब तो लोगो का दिमाग घूम गया क्योकि करीब करीब सभी लोग अपने अपने घर के मुखिया थे एक साहब ने कहा घर का मुखिया ऐसा हो कि घर और समाज कि जिम्मेदार्री बखूबी निभा सके अगर घर का मुखिया घर और समाज कि जिम्मेदारी नहीं उठा पाता तो वह घर का मुखिया नहीं रह सकता घर के लोग उसका विरोध करने लगते है और एक दिन ऐसा आता है कि घर का मुखिया या तो घर छोड़ कर भाग जाता है या आतम -हत्या कर लेता है ...

आज कल मार्डन जमाना है घर का मुखिया जब अपनी ससुराल कि सुनने लगता है 
तब घर घर नहीं रह जाता है...
यही हाल आज हमारे देश का है ...कि पाता नहीं वह कौन सा  कमजोर नस है जो कि कांग्रस ने मन मोहन का पकड़ रखा है कि मन मोहन जी कुर्सी से फेविकोल के जोड़ कि तरह चिपके है  कुछ समझ नहीं आता है....

जय बाबा बनारस............

1 टिप्पणी:

  1. जय बाबा बनारस
    वो कमजोर नस स्विस बैंक से गुजरती है..
    और एक बात चंद्रशेखर जी के समय UGC चेयरमैन बनने में क्या हुआ शायद उसमें भी कुछ हो..

    उत्तर देंहटाएं