शनिवार, 14 अप्रैल 2012


निर्मल बाबा का चमत्कार......है.....या फिर देश की भावुक जनता पर निर्मल बाबा का अत्याचार
 बाबा के थिएटर में बड़ी भीड़ थी. लोग रो रहे थे. एक महिला उठी और बोली की बाबा कल मै रात को पार्टी में गयी थी और जब पार्टी से वापस लौटने लगी तो देखा की मेरी गाडी की चाभी खो चुकी थी,  मै परेशां हो गयी, लेकिन तभी मैंने आपका स्मरण किया और कुछ ही देर में एक लड़का मेरी चाभी लेकर गयाबाबा ऐसी कृपा बनाये रखना.
 बाबा बोले ये सब तो ठीक है..  ये गोलगप्पे कहा से रहे हैं? कितने दिनों से गोलगप्पे नहीं खाए ? आज जाकर गोलगप्पे खाना कृपा हो जाएगी (बाबा गोलगप्पे के भी स्टार प्रचारक हैं)
एक व्यक्ति भीड़ के बीच से उठा और बोला बाबा मेरे घर में शिव,पार्वती,हनुमान,राम,सीत,काली और लक्ष्मी की मूर्तियाँ हैं.
बाबा बोले - काली को घर से बाहर निकाल दो कृपा हो जाएगी और ये बीडी का क्या मामला है कब से नहीं पी ? रोज़ - पिया करो  कृपा हो जाएगी (बाबा ने काली को तो निकालने के लिए बोल दिया और लक्ष्मी के लिए क्यों नहीं बोला)  
एक बुज़ुर्ग उठा और रोने लगा बाबा मेरी लड़की की शादी होनी थी और अचानक मेरे घर में चोरी हो गयी, शादी रुक गयी. मैंने आपका स्मरण किया और शादी हो गयी कृपा बना के रखना.
बाबा बोले तुम्हारी हरी कमीज़ अलमारी में क्या कर रही है ? उसको पहन कर हनुमान जी के दर्शन करो कृपा हो जायेगी.
अब बाबा बोले सब अपना पर्स खोल दो, पर्स का मुह मेरी तरफ कर दो, जिस के पास १० रूपये वाला पर्स है उसके पास लक्ष्मी नहीं आएगी इसलिए १०० रुपये वाला पर्स लो कृपा हो जाएगी. (बाबा बने पर्स के स्टार प्रचारक)
 भोली जनता पी एन बी में लाइन लगा कर खड़ी है कोई समागम के टिकट ले रहा है तो कोई दस्वंद भेज रहा है..अरे आखिर ये है क्या माजरा किसी गरीब को पेट भर खाना दे दो, किसी असहाय का इलाज़ करवा दो, किसी अनाथ आश्रम में दान दे आओ तो कृपा बने . ऐसे अर्जी-फर्जी बाबा जो शकल से बाबा कम धूर्त और व्यापारी ज्यादा लगते हों इनसे तौबा करो और पूजा की अध्यात्मिक पध्धति से विरक्त मत बनो.
इश्वर सर्वव्याप्त है. उस इश्वर की कृपा पाने के लिए ऐसे ढोंगी बाबाओं का सहारा लेना किसी बेवकूफी से कम नहीं है इसलिए ऐसे बाबाओं के चंगुल में जान बूझ कर अपनी गर्दन फ़साना समझदारी नहीं.....

2 टिप्‍पणियां:

  1. आशुतोष तिवारी
    निर्मल बाबा के ढोंग का मै व्यक्तिगत रूप से विरोधी हूँ॥
    मगर एक प्रश्न ये मन मे उठता है की मीडिया विरोध निर्मल(पाखंडी व्यक्ति ) का कर रहा है या बाबा (हिन्दू ) का॥
    कई ईसाई मशीनरी ऐसे फर्जी चमत्कार का दावा करते हैं कई मुस्लिम पीर जैसे भी ये काम करते है मगर तब मीडिया क्यू नहीं भोंकता????

    क्या निर्मल के आड़ मे प्रहार बाबा(हिन्दू श्रद्धा) पर किया जा रहा है इटली की रानी और उसके कुत्तों के इशारे पर ॥

    उत्तर देंहटाएं
  2. मदन भाई अच्छा लेख एक न एक तूफ़ान उठता ही रहता है लेकिन जैसे की आशु भाई ने कहा
    प्रश्न ये मन मे उठता है की मीडिया विरोध निर्मल(पाखंडी व्यक्ति ) का कर रहा है या बाबा (हिन्दू ) का॥
    कई ईसाई मशीनरी ऐसे फर्जी चमत्कार का दावा करते हैं कई मुस्लिम पीर जैसे भी ये काम करते है मगर तब मीडिया क्यू नहीं भोंकता????
    क्या बात है पता नहीं जो भी असलियत में हमें अपनी गाढ़ी कमाई को ढोंगियों से तो बचाना ही चाहिए लुटना नहीं
    सार्थक लेख ..जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं