बुधवार, 21 सितंबर 2011

पगड़ी ही चमकदार कर के ................

अब वो दिन दूर नहीं जब आम जनता इन सबको घर से निकाल निकाल कर ...........

३२ रूपये प्रतिदिन कमाने वाला व्यक्ति गरीब नहीं है...ये हरामखोर गरीबी मिटने की जगह गरीबो को ही मिटाने पर तुले है..तो आज से भारतवासियों के लिए ३२ रूपये रोज की अमीरी ...........

भारत देश के दो सरदारों का पागलपन पुरे देश ने आज देखा सुना ये दोनों सरदार ३२ रूपों मैं अपनी पगड़ी ही चमकदार कर के

साफ़ करा ले यही बहुत है अब वो दिन दूर नहीं जब आम जनता इन सबको घर से निकाल निकाल कर ...........

जय बाबा बनारस.....

4 टिप्‍पणियां:

  1. अगर आपकी उत्तम रचना, चर्चा में आ जाए |

    शुक्रवार का मंच जीत ले, मानस पर छा जाए ||


    तब भी क्या आनन्द बांटने, इधर नहीं आना है ?

    छोटी ख़ुशी मनाने आ, जो शीघ्र बड़ी पाना है ||

    चर्चा-मंच : 646

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. बत्तीसी दिखलाय के, पच्चीस कमवाय के

    आयोग आगे आय के, खूब हलफाते हैं |

    दावा दारु नेचर से, कपडे फटीचर से

    मुफ्तखोर टीचर से, बच्चा पढवाते हैं |

    सेहत शिक्षा मिलगै , कपडा लत्ता सिलगै

    तनिक छत हिलगै, काहे घबराते हैं ?

    गरीबी हटाओ बोल, इंदिरा थी गईं डोल,

    सरकार छोल-छोल, गरीब घटाते हैं ||

    टिप्पणी अगर इरिटेट करे, कृपया डिलीट कर दें |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सही लिखा है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं