शनिवार, 11 अगस्त 2012

दर्द का रास्ता

कर परिश्रम हार कर भी ,
जो व्यक्ति है थकता नहीं,
                   उस ह्रदय में फिर कभी
                     उत्साह मरता है नहीं .

बर्फ ,    अंगारे     बने
यदि ठान ले मन में इसे,
                 साम, दाम, दंड, भेद   भी
               न कर सके विचलित जिसे.

सुख सभी सांसारिक हैं
करे ? कैसे ? किस लिए ?
                  गम की सिरोही ढाल पर
                  लड़ता रहा जिसके लिए ?

प्यार कितना मधुर है..!
कैसे कहें ? न जान कर ,
                    प्याले जहर के पी लियें
                 जिसने हों अमृत मान कर.

मुस्कराहट    कह कहे ,
उदगार हैं खुशियों भरे,
                 माला पिरोनी आंसुओं की
                   हो   जिसे वह क्या करे  ?

एक   राही है अकेला ?
रस्ते विकट लम्बे पड़े ,
                    हर राह दुर्गम, ठौर निर्जन,
                       जंगल  सघन खतरे  बड़े .



सूत्र  छोटा   नहीं    होता
है सफलता का कभी भी,

                  लगन पक्की, लक्ष्य हो स्पष्ट
                  तो  होता  मुश्किल   नहीं  भी ..

**************
~ शिव प्रकाश मिश्रा

(मूल कृति 26-05-1980)

1 टिप्पणी: